शेयर करे

पपीता की खेती कर किसान मिश्रित खेती करने को तैयार

कोई टिप्पणी नहीं
कटिहार /नीरज झा :---कटिहार जिले के राजवाड़ा पंचायत की पहचान सब्जी,फल और मिश्रित खेती के लिए जानी जाती है और यहाँ के किसानों के लिए आमदनी का मुख्य स्रोत भी है । भौगोलिक दृष्टि से कोढ़ा प्रखंड के राजवाड़ा पंचायत में परंपरागत खेती के साथ साथ शब्जी,फल तथा मिश्रित खेती कर यहां के किसान कटिहार जिले के साथ साथ बिहार मे भी अपनी पहचान बना रखा है ।




यहाँ के किसान रामानन्द सिंह द्वारा एक बीघा जमीन में पपीता की खेती कर नई तरह के फसल की शुरुवात किया गया है। रामानन्द सिंह बताते हैं कि करीब आठ सौ पपीता का पौधा लगाकर  इसकी शुरुवात किया गया है जिनमें तीन वर्षों तक उत्पादन मिलते रहेगा खेती में 25 से 30 हजार रुपये एकड़ मे खर्च आता है साथ ही पपीता के लिए यहां बाजार भी आच्छा है अगर यहां के जलवायु और मौषम में पपीते की खेती सफल हो जाती है तो अगले वर्ष इसको और ज्यादा बढ़ाया जाएगा । बताते चले कि वही किसान है रामानन्द सिंह जो 28 वर्ष पूर्व वर्ष 1990 में एक एकड़ भूमि में अमरूद की खेती के साथ-साथ मिश्रित खेती का शुरुवात किया गया था जिसके वाद राजवाड़ा पंचायत के साथ अगल बगल मे क्षेत्रों में करीब दो सौ एकड़ में विभिन्न किस्मो की अमरूद की खेती की जा रही है और किसान माला माल हो रहे है साथ ही यहाँ का अमरूद, शब्जी  कटिहार, के बाजारों की रौनक तो रहती है है साथ साथ पूर्णिया अररिया,जोगबनी,सहरसा, मधेपुरा सहित गिरिडीह,पटना व अन्यत्र क्षेत्र तक पहुंचती है और माँग भी अधिक होती है


©www.katiharmirror.com

कोई टिप्पणी नहीं

शेयर करे

Popular Posts

Featured Post

लॉकडाउन में दिखी अनियमितता

कटिहार/नीरज झा:--कटिहार मे डायन बनी कोरोना को लेकर पूरी तरह लॉक डाउन लागू है । कटिहार प्रसासन लगातार लोगो को अपने घरों मे रहने की अपील भी क...

Blog Archive