शेयर करे

Katihar Feature : बालिका विद्यालयों की जर्जर स्थिति

कोई टिप्पणी नहीं
कटिहार मै सिर्फ दो स्कूल है बालिकाओ के लिए एक उमा देबी हाय स्कूल दूसरा है वित्त रहित ग्रोवर बालिका उच्च विद्यालय जो शहर के पौष इलाका में माना जाता है । उमादेबी गर्ल स्कूल और ग्रोवर बालिका उच्य विद्यालय की कमोबेस एक जैसी स्थिति है लेकिन बालिका उच्य विद्यालय की स्थिति काफी दयनीय   है |






सरकारी महकमे के उदासीनता के साथ साथ राजनीतिक दल के लोग भी कम जिमेवार नही है कटिहार विधान सभा से लगातार केयी वार से जीत कर आरहे विधायक तारकिशोर प्रसाद भजपा के ही केयी बार के सांसद रहेे निखिल कुमार चौधरी और वर्तमान संसद तारिक अनवर को लिखित और मौखिक जानकारी देने के वाद भी कोई देखने तक नही आये और ना ही अपना फंड से मिट्टी भराई हो सकी ना ही एक भवन ही बन सका ।

 ग्रोवर बालिका उच्य विद्यालय के टिचर ने बताया इन जन प्रतिनिधि यहाँ पर अपना फंड नही देना चाहते है क्यों कि यहाँ उनका भोट बैंक नही है जहाँ भोट बैंक है वही अपना फंड देते है । जब भाजपा के एमएलसी अशोक अग्रवाल से जानना चाहा इस पूरे मामले पर तो उन्होंने ने बताया कि आज तक स्कूल कमिटी इस मामले मे हमारी बात नही हुई है आप के दुवारा सूचना पर उन्होंने स्कूल का दौरा किया और बताया स्कूल की स्थिति सच मैं जर्जर है हम कमिटी के लोगो और अधिकारी के साथ बैठक कर जल्द ठीक करेंगे स्कूल के प्रचार्य ने बताया जबतक कमिटी के तहत बालिका उच्य स्कूल चला सब कुछ अच्छा था लेकिन बिहार सरकार ने अपने अंदर लेने के केई सालो वाद भी स्थिति और भी भयावह हो गयी ।स्कूल का भवन जर्जर है कभी भी बड़ा हादसा होने की बाट जोह रहा है प्रशासन स्कूल के जर्जर भवन के चारो तरफ पानी ही पानी है स्कूल आने के रास्तो पर पानी लगे होने के कारण बच्चियों के कपड़े तक भींग जाते है यही नही शिक्षक को केयी सालो से पेमेंट नही मिल रहा है जिससे उनके घरों मै भुखमरी की समस्या उत्पन्य हो गयी है इस मामले मैं जब जिला अधिकारी से जानना चाहा तो जाँच करते है रटाया हुवे जवाब मिला क्या यही है सुशासन बाबू का गुणवत्ता पूर्ण शिक्षा जहा अधिकारी और राजनेता दुर्घटना का बट जोह रहे है

- Kumar Neeraj

कोई टिप्पणी नहीं

शेयर करे

Popular Posts

Featured Post

लॉकडाउन में दिखी अनियमितता

कटिहार/नीरज झा:--कटिहार मे डायन बनी कोरोना को लेकर पूरी तरह लॉक डाउन लागू है । कटिहार प्रसासन लगातार लोगो को अपने घरों मे रहने की अपील भी क...

Blog Archive